Dvigu aur bahubrihi samas me antar
द्विगु समास और बहुब्रीहि समास में अंतर -
द्विगु समास - द्विगु समास में समस्त पद का पहला पद संख्यावाचक विशेषण होता है तथा दूसरा पद उसका विशेष्य होता है

बहुब्रीहि समास - बहुब्रीहि समास में पूरा पद किसी तीसरे पद की और संकेत करता है, तथा पूरा पद विशेषण का काम करता है

नीचे दिए गये उदहारण से द्विगु समास और बहुब्रीहि समास के अंतर को समझा जा सकता है -

समस्त पदविग्रहसमास
चतुर्भुजचार भुजाओं का समूहद्विगु समास
चार भुजाएँ हैं जिसकी (विष्णु)बहुब्रीहि समास
चतुर्मुखचार मुखों का समूहद्विगु समास
चार मुख हैं जिसके (ब्रह्मा)बहुब्रीहि समास
दशाननदस मुखों का समूहद्विगु समास
दस हैं आनन जिसके (रावण)बहुब्रीहि
चौमासाचार मासों (महीनों) का समूहद्विगु समास
चार मासों का है जो (वर्षा ऋतु)बहुब्रीहि
त्रिलोचनतीन लोचनों का समूहद्विगु समास
तीन हैं लोचन जिसके (शिव)बहुब्रीहि समास
बारहसिंगाबारह सींगो का समूहद्विगु समास
बारह सींगो वाला (एक जानवर)बहुब्रीहि समास