भारत में प्रति व्यक्ति आय कम होने के निम्नलिखित कारण हैं -
bharat me prati vyakti aay kam hone ke karan

1. प्राकृतिक साधनों का समुचित प्रयोग न होना -
नियोजित अर्थव्यवस्था के होते हुए भी देश के प्राकृतिक साधनों का समुचित एवं पूर्ण उपयोग नही हो पा रहा है I अतः कुल उत्पादन तथा प्रति व्यक्ति उत्पादन कम रहता है I अतः प्रति व्यक्ति आय भी कम रहती है I

2. कृषि की प्रधानता और कृषि का पिछड़ा होना -
भारतीय अर्थव्यवस्था कृषि प्रधान है I देश की लगभग 58.2% जनसंख्या कृषि तथा कृषि से सम्बंधित कार्य में संलग्न है, जबकि भारत की राष्ट्रीय आय में कृषि का योगदान 22% तक ही हैI फिर आज भी भारतीय कृषि पिछड़ी दशा में है साथ ही कृषक रुढ़िवादी तथा भाग्यवादी हैI अतः कृषि उत्पादन कम है तथा प्रति व्यक्ति आय भी नीची है I

3. औद्योगिक पिछड़ापन -
यद्यपि पंचवर्षीय योजनाओं के अंतर्गत पर्याप्त औद्योगिक विकास हुआ है फिर भी भारत विकसित देशों की तुलना में औद्योगिक दृष्टि से बहुत पीछे है फलतः प्रति व्यक्ति आय का स्तर नीचा है

4. जनसंख्या में तीव्र गति से वृद्धि -
भारत की जनसंख्या लगभग 125 करोड़ है और उसमें तीव्र गति से वृद्धि हो रही हैI जनाधिक्य के कारण भी प्रति व्यक्ति आय कम रहती हैI

5. कम उत्पादकता -
भारत में प्रति श्रमिक उत्पादकता अन्य देशों की अपेक्षा कम हैI इससे प्रति व्यक्ति आय भी कम हैI

6. साहस का आभाव -
भारत में विकसित देशों की अपेक्षा जोखिम उठाकर नवीन उद्योगों की स्थापना करने वाले साहसियों का आभाव है I अतः कुल उत्पादन तथा प्रति व्यक्ति उत्पादन का स्तर नीचा रहता हैI अतः प्रति व्यति आय भी कम रहती हैI

7. पूँजी आभाव -
भारत में बचतें कम होने के कारण पूँजी-निर्माण कम होता हैI अतः निवेश भी कम होती हैI अतः प्रति व्यक्ति आय कम रहती हैI