1857
1857 ke vidroh ki pramukh ghatnayen Download as PDF Click Here

1857 के विद्रोह के निम्नलिखित दिए गये घटनाओं से विभिन्न एकदिवसीय परीक्षाओं में अक्सर प्रश्न पूछे जाते हैं, इसलिए एकदिवसीय परीक्षाओं की तैयारी करने वाले विद्यार्थियों के लिए इसका अध्ययन करना अति महत्वपूर्ण है

2 फरवरी, 1857 - 19वीं स्थानीय पैदल सेना का बहरामपुर में विद्रोह

29 मार्च, 1857 - बैरकपुर में सैनिकों ने चर्बीयुक्त कारतूसों के प्रयोग करने से इनकार कर दिया, मंगल पाण्डेय नामक सैनिक ने अपने एजुटेंट (Adjutant) पर हमला कर उसकी हत्या कर दी.

10 मई, 1857 - मेरठ में सैनिकों का विद्रोह

10-30 मई, 1857 - दिल्ली, फिरोजपुर, बम्बई, अलीगढ़, इटावा, बुलंदशहर, नसीराबाद, बरेली, मुरादाबाद, शाहजहाँपुर, एवं अन्य उत्तर प्रदेश के शहरों में विद्रोह का भड़कना.

12 मई, 1857 - बहादुरशाह द्वितीय को भारत का सम्राट घोषित किया गया. दिल्ली पर अधिकार.

जून, 1857 - ग्वालियर, भरतपुर, झाँसी, इलाहाबाद, फैजाबाद, सुल्तानपुर, लखनऊ आदि में विद्रोह.

5 जून, 1857 - नाना साहब को कानपुर का पेशवा घोषित किया गया.

जुलाई, 1857 - इंदौर, सागर, महू, जेहलम एवं स्थालकोट के कुछ स्थानों पर विद्रोह.

अगस्त, 1857 - सागर एवं नर्मदा नदी घाटी के सम्पूर्ण प्रदेश में असैन्य विद्रोह.

20 सितम्बर, 1857 - दिल्ली पर अंग्रेजों का निकलसन के नेतृत्व में पुनः अधिकार हो गया.

अक्टूबर, 1857 - कोटा में विद्रोह का विस्तार

नवम्बर, 1857 - विद्रोहियों ने जनरल विण्डहम को कानपुर के निकट परास्त किया.

6 दिसम्बर, 1857 - कानपुर का युद्ध सर कॉलिन कैम्बल ने जीता, तात्या टोपे भाग निकले और झाँसी के रानी से जा मिले.

मार्च, 1857 - लखनऊ पर अंग्रेजों का पुनः अधिकार हो गया.

3 अप्रैल, 1858 - सर ह्यूरोज ने झाँसी पर आक्रमण कर पुनः अपने अधिकार में कर लिया.

अप्रैल 1858 - जगदीशपुर (बिहार) के कुँवर सिंह ने विद्रोह किया.

मई, 1858 - अंग्रेजो ने बरेली, जगदीशपुर, कालपी को पुनः जीता. भारतीय विद्रोहियों ने रुहेलखण्ड में छापामार आक्रमण प्रारम्भ किया.

जून, 1858 - ग्वालियर पर अंग्रजो का पुनः अधिकार.

जुलाई, दिसम्बर, 1858 - सम्पूर्ण भारत में अंग्रेजी सत्ता पुनः स्थापित

1857 ke vidroh ki pramukh ghatnayen Download as PDF Click Here

कहाँ, किसने किया विद्रोह का नेतृत्व

स्थान नेतृत्वकर्ता
दिल्ली बहादुरशाह जफर (प्रमुख नेतृत्वकर्ता) वक्त खां (सैन्य नेतृत्वकर्ता)
झाँसी रानी लक्ष्मीबाई
सम्बलपुर सुरेन्द्र साईं
बिहार (पटना, दानापुर, शाहाबाद, जगदीशपुर, छोटानागपुर) - कुँवरसिंह
हरियाणा राव तुलाराम
मथुरा देवा सिंह
ग्वालियर, कालपी तात्या टोपे
फैजाबाद मौलवी मुहम्मद अल्ला
इलाहाबाद लियाकत अली
लखनऊ बेगम हजरत महल
कानपुर नाना साहब, अजामुल्ला
मेरठ कदम सिंह
1857 ke vidroh ki pramukh ghatnayen Download as PDF Click Here